​गुजरात मार्केट रिपोर्ट मार्च 2017

Tobacco Plus > News & Blogs

login Sign In

गुजरात मार्केट रिपोर्ट मार्च 2017































नरेन्द्र कुमार

ब्यूरो प्रमुख, गुजरात


राग की ऊंची छलांग

प्रिमियम श्रेणी में रजनीगंधा का वर्चस्व पहले की तरह कायम है, लेकिन कुछ अर्सा पहले से पान विलास, राग और करमचंद ने अपनी पकड़ मजबूत की है। हालांकि यह सभी उत्पाद अभी रजनीगंधा से काफी पीछे हैं। सामान्य श्रेणी के पान मसाला में विमल पहले की तरह नंबर वन पर डटा हुआ है। ध्यान रहे कि बाजार में 5 रूपए वाले पाऊच का ट्रेंड शुरू करने का श्रेय विमल को ही जाता है। अब कंपनी अपने 10 रूपए वाले पाऊच को विस्तार देने मेंं जुट गई है। गुजरात के कई हिस्सों में इसका असर भी देखने को मिल रहा है। वहां की पान शाप पर 10 रूपए वाला पाऊच ही दिख रहा है। अहम बात यह है कि राज्य की मंडियों में राग काफी तेजी के साथ बढ़ रहा है। एक तरह से इसने नंबर 2 की हैसियत हासिल कर ली है। राग कुछ ही समय पूर्व लांच हुआ है। स्वाद के लिहाज से यह काफी अच्छा उत्पाद है। साथ ही कंपनी ने भी मार्केटिंग पर काफी ध्यान दिया है। इन सब के चलते यह उत्पाद लोगों के बीच लोकप्रिय हो रहा है।


गुजरात में शुद्ध प्लस को मिल रहे अच्छे नतीजे

शुद्ध प्लस ने गुजरात के प्रमुख शहरों के बाद अब आणंद, भाव नगर, भुज, मुंद्रा व कच्छ आदि क्षेत्रों में लांचिंग की है। समूचे राज्य में इसे अच्छे नतीजे मिल रहे हैं। कंपनी की मार्केटिंग टीम शहरी व ग्रामीण इलाकों में काफी सक्रिय है। ध्यान रहे गुजरात में 5 रूपए वाले पाऊच का ट्रेंड स्थापित हो चुका है, लिहाजा शुद्ध प्लस अपने जंबो पाऊच पर ही सारी ऊर्जा लगा रहा है। बाजार सूत्रों का कहना है कि शुद्ध प्लस काफी तेजी के साथ नए ग्राहक जोड़ रहा है।


गुजरात में राजश्री ने दी आकर्षक स्कीमें

राजश्री की सूरत, वापी, अंकेलेश्वर व राजकोट आदि में पहले से ही काफी अच्छी स्थिति है। अब कंपनी ने काफी अच्छी स्कीम भी लांच की है। दो पैकेट लेने पर एक स्क्रेच कूपन और एक कार्टून लेने पर एक मास्टर कूपन मिल रहे हैं। दस कूपन लेने पर काफी अच्छा ईनाम है। यह स्कीमें रिटेलरों को काफी अकर्षित कर रही हैं। कुल मिलाकर गुजरात में राजश्री की भी स्थिति अच्छी है।


दिलबाग ने उत्तरी गुजरात में झोंकी ताकत

दिलबाग ने कलोल, मेहसाणा व पाटन समेत उत्तरी गुजरात में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। उत्पाद की बिक्री बढ़ाने के लिए कंपनी ने अपनी स्कीमों में भी बदलाव किया है। हर पैकेट में कैश कूपन, कट्टे पर मास्टर कूपन और बोरे पर मास्टर कूपन के साथ एक मास्टर कूपन अलग से दिया जा रहा है। इन जोरदार स्कीमों के साथ कंपनी की मार्केटिंग टीम पूरे जोर शोर से दिलबाग को रफ्तार दिलाने में जुटी हुई है।


दक्षिणी गुजरात में करमचंद की अच्छी बिक्री

करमचंद ने काफी कम समय में गुजरात की मार्केट में जगह बनाई है। मौजूदा समय में नवसारी, वलसाड़ और वापी समेत राज्य के दक्षिणी हिस्से में यह काफी अच्छा चल रहा है। प्रिमियम श्रेणी के उत्पाद पसंद करने वाले लोग भी इसे खरीद रहे हैं। हालांकि बाजार सूत्रों ने बताया कि इस बीच माल की सप्लाई में थोड़ी समस्या आ रही है। अपनी स्थिति को बनाए रखने और बेहतर करने के लिए करमचंद को सप्लाई पर ध्यान देना होगा।


कई जिलों में राजनिवास मजबूत

राजनिवास को हलोल, कलोल, छोटा उदयपुर व आस-पास के इलाकों में अच्छा रिस्पांस मिल रहा है। साथ ही गोवा, शिमला, कुबेर व विलास आदि भी बाजार में अपनी जगह बनाने के लिए जोर लगा रहे हैं। इन कंपनियों की मार्केटिंग टीम कठोर मेहनत कर रही है।


दोस्त भुनी सुपारी ने पूरे राज्य में बनाई पकड़

सुपारी पर नजर डाली जाए तो दोस्त भुनी सुपारी ने समूचे राज्य में अपनी पकड़ बना ली है। आंटी, सुरीली व बब्लू गोल्ड की भी बिक्री ठीक-ठाक है। रितिक गोल्ड और आंटी नं.1 की भी विभिन्न जिलों में मार्केटिंग चल रही है। उल्लेखनीय है कि मीठी सुपारी के लिहाज से गुजरात काफी अच्छा मार्केट माना जाता है, इसलिए सभी कंपनियां यहां आपने पांव जमाने की कोशिश में रहती हैं।


मिराज की बिक्री जोरों पर

रेडीमेड खैनी में कई कंपनियां गुजरात में पांव जमाने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन यहां मिराज का बोलबाला है। राज्य में बुद्धालाल, सुरेश, पुकार व हनुमान छाप की भी अच्छी मार्केट है। बाजार सूत्रों का कहना है कि मार्केट में खैनी के नए ब्रांड जरूर आए हैं और उनके लिए कंपनियों की मार्केटिंग टीम काफी प्रयास भी कर रही हैं, लेकिन अभी उन्हें सफलता नहीं मिल पा रही है।